Friday, June 06, 2014

तुम ही बताओ

तुम ही बताओ 
बिना हवा के सांस कैसे आएंगी 
लपेट लोगी जो डोर सारी 
पतंग कैसे मुस्कुराएगी 

बिना पानी के बोलो कैसे 
बादल उमड़ कर आएंगे 
जो धूप हुई ना थोडी थोडी 
कैसे इन्द्रधनुष बन पाएंगे 

जो रात हुई ना कैसे जुगनु
राहें जगमग कर पाएंगे
बिन सूरज के डूबे हम
सुबह कहाँ से पाएंगे

आँखें मूंदे मूंदे हम
दूर कहाँ चल पाएँगे
बस उतना ही पहुचेंगे
पैर जहाँ ले जायेंगे

आँखें खोलो
धूप ओढ़ लो
पंखों को फैलाओ
तुम अपनी शिद्दत के दम पर
हवा चीरते जाओ

No comments:

Post a Comment